e1.v-koshevoy.ru

New Hindi Sex Stories

पापा ने चोद कर मेरी आग बुझाई

प्रेषिका: जुली

मेरा नाम जुली है. मेरी उम्र लगभग 28 वर्ष की हो चुकी है. मेरी शादी एक बिज़नेसमैंन से हुयी है. लेकिन मैं आपको अपनी पहली चुदाई की कहानी सूना रही हूँ. तब मैं मैं अपने मामा के यहाँ रह कर पढ़ाई करती थी. मेरी उम्र 18 वर्ष की थी. मेरा घर गाँव में था. मेरे कॉलेज में छुट्टी हो गयी थी. मैंने अपने पापा को फ़ोन किया और कहा कि वो आ कर घर ले जाएँ. मेरे पापा मुझे लेने आ गए. हम दोनों ने रात नौ बजे ट्रेन पर चढ़ गए. ट्रेन पैसेंजर थी. रात भर सफ़र कर के सुबह के 5 बजे हम लोग अपने गाँव के निकट उतरते थे.  उस ट्रेन में काफी कम पैसेंजर थे. उस पूरी बोगी में सिर्फ 20- 22 यात्री रहे होंगे. उस पैसेंजर ट्रेन में लाईट भी नहीं थी. जब ट्रेन खुली तो स्टेशन की लाईट से पर्याप्त रौशनी हो रही थी. लेकिन ट्रेन के प्लेटफोर्म को छोड़ते ही पुरे ट्रेन में घना अँधेरा छा गया. हम दोनों अकेले ही थे. करीब आधे घंटे के बाद ट्रेन एक सुनसान जगह खड़ी हो गयी. यहाँ पर कुछ दिन पूर्व ट्रेन में डकैती हुयी थी. पूरी ट्रेन में घुप्प अँधेरा था और आसपास भी अँधेरा था. हम दोनों को डर सा लग रहा था. पापा ने मुझसे कहा – बेटी एक काम कर. ऊपर वाले सीट पर सो जा.  दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
मैंने कम्बल निकाला और ऊपर वाले सीट पर लेट गयी. लेकिन ट्रेन लगभग 10 मिनट से उस सुनसान जगह पर खड़ी थी. तभी कुछ हो हंगामा की आवाज आई. मैंने पापा से कहा – पापा मुझे डर लग रहा है.
पापा ने कहा – कोई बात नहीं है बेटी, मैं हूँ ना.
मैंने कहा – लेकिन आप तो अकेले हैं पापा, यदि कोई बदमाश आ गया और मुझे देख ले तो वो कुछ भी कर सकता है. आप प्लीज ऊपर आ जाईये ना. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
पापा – ठीक है बेटी.
पापा भी ऊपर आ गए और कम्बल ओढ़ कर मेरे साथ सो गए. अब मैं उनके और दीवार के बीच में आराम से छिप कर थी. अब किसी को पता भी नहीं चल पायेगा कि इस कम्बल में कोई लड़की भी है. थोड़ी ही देर में ट्रेन चल पड़ी.
हम दोनों ने राहत की सांस ली. मैंने पापा को कस कर पकड़ लिया. ट्रेन की सीट कितनी कम चौड़ी होती है आपको पता ही होता है. इसी में हम दोनों एक दुसरे से सट कर लेटे हुए थे. पापा ने भी मुझे अपने से साट लिया और कम्बल को चारो तरफ से अच्छी तरह से लपेट लिया. पापा मेरी पीठ सहला रहे थे. और मुझसे कहा – अब तो डर नहीं लग रहा ना बेटी?
मैंने पापा से और अधिक चिपकते हुए कहा – नहीं पापा. अब आप मेरे साथ हैं तो डर किस बात की?
पापा – ठीक है बेटी. अब भर रास्ते हम दोनों इसी तरह सटे रहेंगे. ताकि किसी को ये पता नहीं चल सके कि कोई लड़की भी इस बर्थ पर है.
ट्रेन अब धीरे धीरे रफ़्तार पकड़ चुकी थी. पापा ने थोड़ी देर के बाद कहा – बेटी तू कष्ट में है. एक काम कर अपना एक पैर मेरे ऊपर से ले ले. ताकि कुछ आराम से सो सके.
मैंने ऐसा ही किया. इस से मुझे आराम मिला. लेकिन मेरा बुर पापा के लंड से सटने लगा. ट्रेन के हिलने से पापा का लंड बार बार मेरे बुर से सट जा रहा था.
अचानक पापा ने मेरे चूची को दबाना चालू कर दिए. मैंने शर्म के मारे कुछ नहीं बोल पा रही थी. हम दोनों के मुंह बिलकुल सटे हुए थे. पापा ने मुझे चूमना भी चालू कर दिया. मैं शर्म के मारे कुछ नहीं बोल रही थी.
पापा ने मेरी सलवार का नाडा पकड़ा और उसे खोल दिया और कहा – बेटा तू सलवार खोल ले.
मैंने सलवार खोल दिया. पापा ने भी अपना पायजामा खोल दिया.
अब पापा ने मेरी पेंटी में हाथ डाला और मेरी चूत के बाल को खींचने लगे. मैंने भी पापा के अंडरवियर के अन्दर हाथ डाला और पापा के तने हुए 6 इंच के लौड़े को पकड़ कर सहलाने लगी. आह कितना मोटा लौड़ा था… मुठ्ठी में ठीक से पकड़ भी नहीं पा रही थी.
पापा ने मेरी पेंटी को खोल कर मुझे नग्न कर दिया. फिर अपना अंडरवियर खोल कर मेरे ऊपर चढ़ गए. मेरे चूत में ऊँगली डाल कर मेरे चूत का मुंह खोला और अपना लंड उसमे धीरे धीरे घुसाने लगे. मैं शर्म से मरी जा रही थी. लेकिन मज़ा भी आ रहा था. पापा ने मेरे चूत में अपना पूरा लौड़ा घुसा दिया. मेरी चूत की झिल्ली फट गयी. दर्द भी हुआ और मैं कराह उठी. लेकिन ट्रेन की छुक छुक में मेरी कराह छिप गयी. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
पापा मुझे चोदने लगे. थोड़े देर में ही मेरा दर्द ठीक हो गया और मैं भी चुपचाप चुदवाती रही. करीब 10 मिनट की चुदाई में मेरा 2 बार झड गया. 10 मिनट के बाद पापा के लौड़े ने भी माल उगल दिया. पापा निढाल हो कर मेरे बगल में लेट गए. लेकिन मेरा मन अभी भरा नहीं था. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
मैंने पापा के लंड को सहलाना चालू किया. पापा समझ गए कि उनकी बेटी अभी और चुदाई चाहती है.
पापा – बेटी, तू क्या एक बार और चुदाई चाहती है.
मैंने – हाँ पापा.. एक बार और कीजिये न..बड़ा मजा आया..
पापा – अरे बेटी, तू एक बार क्या कहे मैं तो तुझे रात भर चोद सकता हूँ.
मैंने – ठीक है पापा, आप की जब तक मन ना भरे मुझे चोदिये. मुझे बड़ा ही मज़ा आ रहा है.
पापा ने मुझे उस रात 4 बार चोदा. सारा बर्थ पर माल और रस और खून गिरा हुआ था. सुबह से साढ़े तीन बज चुके थे.
पांचवी बार चुदाई के बाद हम दोनों नीचे उतर आये. मैंने और पापा ने अपने पहने हुए सारे कपडे को बदल लिया और गंदे हो चुके कपडे और कम्बल को चलती ट्रेन से बाहर फेंक दिया. मैंने बोतल से पानी निकाला और मुंह हाथ साफ़ कर के बालों में कंघी कर के एकदम फ्रेश हो गयी. दोस्तों आप यह कहानी मस्तराम डॉट नेट पर पढ़ रहे है |
पापा ने मुझे लड़की से स्त्री बना दिया था. मुझे इस बात की ख़ुशी हो रही थी कि यदि मेरे कौमार्य को कोई पराया मर्द विवाह पूर्व भाग करता और पापा को पता चल जाता तो पापा को कितनी तकलीफ होती. लेकिन जब पापा ने ही मेरे कौमार्य को भंग कर मुझे संतुष्टि प्रदान की है तो मैं पापा की नजर में दोषी होने से भी बच गयी और मज़ा भी ले लिया.
यही सब विचार करते करते ठीक पांच बजे हमारा स्टेशन आ गया और हम ट्रेन से उतर कर घर की तरफ प्रस्थान कर गए.
घर पहुँचने पर मौका मिलते ही पापा मुझे चोद कर मुझे और खुद को मज़े देते थे.

दोस्तों आप लोग सोच रहे होगे की मै अपनी कहानी आप लोगो को क्यों बता रही हु | बस रोज रोज मस्तराम डॉट नेट की कहानियाँ पढ़ते पढ़ते सोची क्यों ना मै भी कुछ लिखू घर में बैठ के बोर हो जाती हु सो और एक बात आप लोग मुझे नही जानते और मै भी आप लोगो को नही जानती बस कहानी पढ़ के मजे ले सकते है | और मै आप लोगो की और भी कहानिया पढना चाहती हु सो अगर आप लोगो के साथ भी कोई एसी घटना हुयी हो तो गुरूजी को भेज दीजिये मै भी पढ़ के अपनी चूत की प्यास शांत कर लूगी | फिर जल्दी ही एक और देवर की चुदाई की कहानी पोस्ट करुगी मै | अभी लिख ही रही हु |

e1.v-koshevoy.ru: Hindi Sex Kahani © 2015


"bahan ki chudayi""mastaram sex story""mastram ki hindi sexy kahaniya""हीनदी सेकस कहानी""jija sali sex story in hindi""sexi stori""behan ki chudayi""maa bete ki sex story hindi""mastram sexstory""kamasutra kahani""mastaram net""nisha ki chudai""maa ki chudai kahani""hot sexy marathi story""sex mastram""mastaram sex story""ma beta ki chudai kahani""आई मुलगा झवाझवी""hindi chodan katha""chodan story""maa beta ki chudai kahani""maa aur bete ki sex story""marathi sexy stories in marathi font""mastram sex hindi""sex kahani maa""train mein chudai""bahu ki bur""maa bete ki antarvasna""marathi zavazavi katha in marathi font""baap aur beti ki chudai ki kahani""antarvasna free hindi story""mastram sexy""chachi ki chudai hindi mai""nokar ne choda""bhabhi ne chodna sikhaya""papa beti ki chudai""rishton main chudai"www.antarwasna.com"bhai ne malish ki""chut chatne ke tarike""www chodan story com""sexy poem in hindi""animal sex story hindi""kamasutra story book in hindi""hindi chodai ki kahani""mausi ki bur""chudai ka nasha""मस्त राम की कहानी""animal sex hindi kahani""marathi font sex katha""maa beta ki chudai""antarvasana .com""kutte se chudai ki kahani""maa aur bete ki chudai ki kahani""baap beti sex story hindi""antarvasna hindisexstories""mosi ki chudai kahani""maa ko choda khet me""antarvasna bahu""meri pahali chudai""kamukta marathi""meri pehli chudai""ma beta ki chudai kahani""marati sexi kahani""sali ki chudai story""maa sex story""bahu ki chudai kahani""chachi ke doodh""marati sexi story""mastram ki sexi kahaniya""चाची की चुदाई""ma beta ki sex kahani""maa sex story""antarvasna bhabhi ki chudai""www chodan com hindi""didi ki chuchi""xxx sex story in tamil""hindi lesbian kahani""marathi zavazavi gosti""choti bachi sex story""kamukta marathi"