e1.v-koshevoy.ru

Mastram Ki Hindi Sex Stories | e1.v-koshevoy.ru Ki Antarvasna Stories | मस्ताराम की हिंदी सेक्स कहानियां

पहली बार दोस्त की गांड को चोदा

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम दमन है। मैं 24 साल का हूँ। मैं देखने में बहुत ही जबरदस्त लगता हूँ। मुझे देखकर हर लड़का यही कहता है कि अपना भाई तो हीरो लगता है। लडकियां तो मेरी जबरदस्त पर्सनालिटी को देखकर फ़िदा हो जाती है। मैं भी लड़कियों को पटानकर चोदने का बहुत शौक रखता हूँ। मुझे लड़कियों की चूंचियो को दबाकर पीना बहुत ही अच्छा लगता है। मै उनकी गांड चुदाई जरूर करता हूँ। लडकियां मेरा 6″ का लौड़ा देखकर होंठ काट लेती है। मेरा लंड लाल लाल साँड़ के जैसा है। लड़कियां मेरी गाजर खाने के लिए बहुत ही परेशान रहती है। मुझे उनकी चूत में ऊँगली डालकर माल को चाटना बहुत अच्छा लगता है। मैंने अब तक कई लोगो का अपना गाजर खिलाया है। मेरे दोस्त भी इस लंड पर फ़िदा थे।

मै बहुत दिनों से अपनी कहानी लिखने को बेकरार था। जो मेरे साथ हुआ वो सच्ची घटना है। दोस्तों दो साल पहले मैं गोपालगंज में रहता था। ये घटना तब की है जब मैने किसी लड़की को नहीं चोदा था। पहली बार मेरे गांडू दोस्त ने मुझे अपना छेद देकर किस्मत खोल दी। मुझे एक दोस्त मिला। उसका नाम चिन्मय था। वो बहुत ही स्मार्ट था। उसका शरीर किसी लड़की से ज्यादा सॉफ्ट सॉफ्ट था। उसके बदन को छूते ही मेरा लंड खड़ा हो जाता था। मेरी उससे फ्रेंडशिप हो गई। उसका घर गोपालगंज में ही था। मुझे रूम लेकर रहना था। वो मुझे अपने घर ले गया। मुझे वही रहने का आश्रय दिया। मै उसके घर में उसके परिवार के साथ रह रहा था। उसके घर में अंकल और आंटी ही रहते थे। वो बहुत अच्छे आदमी थे। आंटी को देखते ही मेरा लंड खड़ा हो जाता था।

मेरा मन उनकी चूत फाडने को करता। आंटी अब इस उम्र में भी एकदम जवान लग रही थी। आखिर उन्ही का लड़का तो था चिन्मय। अंकल आंटी जॉब करते थे। वो किसी मीटिंग में दो दिन के लिए जाने वाले थे। उन्होंने मुझसे कहा दमन मै दो दिन के लिए बाहर जा रहा हूँ। तुम और चिन्मय साथ में ही रहना। खाना कामवाली आकर बना जायेगी। लेकिन मुझे क्या पता था कि आज मेरी किस्मत पर मेरा दोस्त दिया जला देगा।
मै हर दिन की तरह आज भी नॉर्मली घर पर रुका हुआ था। लेकिन आज चिन्मय कुछ ज्यादा ही उछल रहा था।

मैंने पूछा- “क्या बात है भाईजान आज कुछ ज्यादा ही खुश लग रहे हो”
चिन्मय- “क्या करूं जनाब बात ही कुछ ऐसी है”
मै- “क्या बात है??? जो तुम मुझे अभी तक नहीं बता रहे हो”
चिन्मय- “मै तुझे बता देता पर तुम्हे अचानक बता कर सरप्राइज़ देना चाहता हूँ”

पूरा दिन मेरी दिमाग में यही घूमता रहा क्या हो सकता है। मै जानने को बहुत ही उत्सुक हो रहा था। लेकिन मै कर भी क्या सकता था। वो कुछ बताने को तैयार ही नहीं था। मैं भी अपना काम करने लगा। लेकिन अंदर ही अंदर मुझे जानने की उत्सुकता खाये जा रही थी। चिन्मय ने मुझे खुश करने के लिए बहुत सारा प्लान बनाया। मेरी कुछ समझ में ही नहीं आ रहा था। आज कोई स्पेशल डे भी नहीं है। फिर क्यों ऐसा व्यवहार कर रहा है मेरे साथ। उसने शाम को खाना बाहर खाने के लिए होटल चलने को कहा। मैंने भी मना नही किया। शाम को खाना खाकर वापस घर आ गया। मै पढ़ाई करने के लिए अपने कुर्सी पर बैठा ही था कि पीछे से आकर उसने मुझे कहा- “आज घर पर कोई नहीं है। और मस्ती करने का मौका है। तुम फिर भी के किताबो के बीच में ही पड़े सड़ रहे हो”

यह कहानी भी पढ़े : 

मै कुछ कहता उससे पहले ही वो मेरी किताब बंद करके खींचने लगा। छोटे बच्चो की तरह वो मुझे खींच रहा था। बच्चे तो सोने के लिए खींचते है। मै भी थोड़ा दबता था। क्योंकि उसी के घर में फ्री में रहता था। हम दोनों ही बनियान और पैजामे में बिस्तर पर बैठे हुए थे। चिन्मय मुझे बहुत ही हवस की नजरों से मेरी तरफ देख रहा था। मुझे उसकी गन्दे इशारे करती नजर बिलकुल ही अच्छी नहीं लग रही थी। मैं पूछा- “क्या बात है भाई आज बड़ी अजीब नजरो से देख रहे हो”
चिन्मय- “नजरो का क्या है। जो भी जैसा समझ ले”
ये बात उसने बहुत ही दुख से बोला। मै कुछ समझ नहीं पाया। लेकिन फिर भी समझने की कोशिश करने लगा। बार बार पूंछने लगा। इस बार उसने मुझे अपने दिल पर पड़े बोझ को हल्का करने के लिए बताया। कि आज हम लोग मस्ती करते है। मैं ब्लू फिल्म की डी DVD लाया हूँ। पूरी रात हम लोग बैठ कर एन्जॉय करेंगे। मेरा मन भी देखने को मचलने लगा। लेकिन मुझे क्या पता था। इतना मचल जायेगा की सारी हदे पर करनी पड़ेगी। उसने मूवी स्टार्ट की। हम दोनों देख देख कर अपना अपना डंडा हिला रहे थे। मेरा लंड तो कम ही खड़ा हुआ था। लेकिन उसका लंड तो बहुत ही तेजी से खड़ा हो गया। वो मुठ मार रहा था। लेकिन मुझे नहीं पता था कि ये लड़कियों के शौक रखता है। इतने अमीर घर का होकर भी वो अपने शरीर को लड़कियों की तरह ही मेनटेन कर रखा था।
मैंने उसके बदन की नरमी का एहसास तो बहुत पहले ही कर चुका था। मै जब भी उसके पास लेट जाता था कभी तो वो अक्सर रात में अपना हाथ मेरे लंड पर ही रखे मिलता था। मुझे अच्छा नहीं लगता था। लेकिन मुझे क्या पता था कि ये मुझे अपने घर में अपने सपनो को पूरा करने के लिए रखा है। हम दोनों मजा लेकर मुठ मार कर ब्लू फिल्म देख रहा था। झड़ते ही मेरा मन शांत हो गया। मेरा तना खड़ा हुआ लंड धीरे धीरे सिकुड़ कर अपने पुरानी स्थिति में जा पहुचा। पहले की तरह मेरा लंड छोटा हो गया। मै भी कुछ देर चुप रहा। कुछ देर बाद चिन्मय ने मुझसे कहा- “भाई तुम्हे छेद चाहिए”
मै- “हाँ लेकिन अब कहाँ मिलने वाला है। वैसे भी एक भी गर्लफ्रेंड नहीं है। न जाने कब तक हाथ से काम चलाना पड़ेगा”
चिन्मय- “भाईजान!! एक बात बहुत दिनों से मेरे दिमाग में घुसी हुई है जो मैं तुम्हे पेश करने जा रहा हूँ”
मेरी बेचैनी बढ़ती ही जा रही थी। मैंने कहा- “जल्दी से कहो नहीं तो देर हो जायेगी। फिर मुझे नींद आने लगेगी। मै सो जाऊँगा। फिर तुम कर लेना अकेले में ही बात।
चिन्मय- “भाई मेरी गांड में बहुत दिनों से खुजली हो रही है। तुम शांत कर सकते ही”

यह कहानी भी पढ़े : 

मै- “क्या….क्या…कह रहे हो तुम । तुम्हारा दिमाग तो ठीक हैं”
चिन्मय- “मुझे पता था तुम यही बोलोगे। लेकिन सभी एक जैसे तो नहीं होते। तुम नहीं करोगे तो कोई और करेगा ऐसा”
मैंने भी सोचा कुछ भी हो, हाथ से काम चलाने से तो बेहतर ही होगा। मैंने कुछ देर बाद हाँ बोल दिया। वो ख़ुशी के मारे उछलने लगा।

पैंट तो हम लोगो ने पहले से ही नीचे सरका रखी थी। थोड़ा सा और नीचे करके निकाल दिया। आज मुझे पहली बार किसी के छेद में अपना लंड डालने का मौका मिल रहा था। चिन्मय तो साला हिजरा निकला। वो लड़कियो की तरह अपना होठ काट रहा था। वो मेरे ऊपर अपने हाथों की उंगलियां चलाकर मुझे मदहोश कर रहा था। मैं भी बेकाबू होता जा रहा था। कुछ देर बाद उसने अपना हाथ फिराते फिराते मेरे लंड पर ले गया। उसने मेरे सिकुड़े लंड को हिला हिला कर जगाना शुरू किया।

मेरा पप्पू भी उठने की तैयारी में था। धीरे धीरे वो मिसाइल की तरह खड़ा होने लगा। मैंने भी मान लिया चिन्मय लड़का नही लड़की है। फिर मै ब्लू फिल्मों की तरह उसके साथ व्यवहार करने लगा। उसके चिकने बदन पर मैं अपने हाथों से ही मसाज करने लगा। मेरा शरीर का तो एक एक अंग गठीला था। लेकिन उसका पूरा शरीर गोरा गोरा था। मैने उसके जिस्म को छू छू कर आग लगा दिया। मै खड़ा था। वो अपने घुटनों के बल बैठ गया। उसके बाद वो मेरा लंड पकड़ कर अपने मुह में लेने लगा। मै डर रहा था। कही ऐसा न हो की ये अपने मुह में मेरा लंड रखकर जोश में काट वाट ले। मैंने कुछ टाइम तक तो थोड़ा बहुत विरोध किया। लेकिन वो मेरा लंड आइसक्रीम की तरह चाटता हुआ लॉलीपॉप की तरह चूसने लगा।

मुझे बहुत ही अजीब लग रहा था। लेकिन कुछ देर बाद मजा भी आने लगा। लंड को मैं अच्छे से चुसवा रहा था। मेरा पप्पू गाजर की तरह लाल लाल होकर निखर रहा था। चूस चूस कर उसने मेरे लंड को 6″ का साँड़ जैसा कर दिया। मैं जोश में आकर गरमा रहा था। मै अपना लंड उसके मुह में डालने लगा। मैंने उसका सर पकड़ा और अपना लंड उसके मुह में जड़ तक अपना लंड पेल दिया। मेरा लंड उसके गले से नीचे उतर गया। वो जोर से वुओ….वुय की आवाज के साथ चीख निकाल दिया। लेकिन मेरा लंड उसके पूरे मुह में भरा हुआ था तो वो बोल नहीं पा रहा था। उसकी आँखे लाल लाल हो गई। उसकी साँसे फूलने लगा। वो लंड निकालने को तड़पने लगा। मुझे डर लगने लगा। कही ये मेरा लंड न काट ले। मैंने झट से अपना लंड बाहर किया। वो कुछ देर चैन की सांस लेकर मेरी गोलियां चूसने लगा। उसके गोरी गोरी गांड को देखकर मेरा लंड गांड चुदाई करने को बेकरार हो रहा था। मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया। उसके बाद चिकनाई के लिये पास से थोड़ा तेल लाकर उसके गांड पर मसाज करने लगा। वो भी गांड में लंड लेने को तङप रहा था।

मैंने अपने लंड पर खूब तेल लगाकर उसके गांड पर रख दिया। मैंने उसे अब कुत्ते की तरह झुकाया। उसके गांड का छेद अच्छे से खुल गया। मै लंड छेद पर ही रगड़ने लगा। वो पकडकर खींच कर अपने गांड में घुसाने लगा। मैंने भी जोर का धक्का मारा। मेरे लंड का सुपारा अंदर फस गया। वो जोर से “हूँउउउ हूँउउउ हूँउउउ ….ऊँ—ऊँ…ऊँ सी सी सी सी… हा हा हा.. ओ हो हो….” की चीख के साथ चिल्लाने लगा। पहली बार वो भी गांड चुदाई करवा रहा था। हम दोनों ही इस खेल में अनाड़ी थे। लेकिन हमने फिर ब्लू फिल्म से सब सीख लिया था। फिल्म से चुदाई के अलग अलग पोजीशन को देखकर चुदाई करना भी सीख लिया था। मैं धीरे धीरे करके पूरा लंड को घुसाने लगा। आख़िरकार पूरा लंड मैंने जड़ तक पेल कर चुदाई स्टार्ट कर दी। वो अब जोर जोर से “….उंह उंह उंह हूँ.. हूँ… हूँ..हमममम अहह्ह्ह्हह. .अई…अई…अई…..” की सिसकारी भर रहा था।

यह कहानी भी पढ़े : 

मुझे लगता कि मैं किसी लड़की को चोद रहा हूँ। उसकी आवाज लड़कियों जैसी ही निकल रहीं थी। मै उसके गद्देदार गांड पर हाथ मार मार कर गांड चुदाई कर रहा था। वो भी अब अपने गांड को हिला हिला कर मजा लेने लगा। मैने पहली बार देखा था कि लड़के भी लड़कियों वाले शौक रखते हैं। उसे बहुत मजा आ रहा था। मैंने भी स्पीड बढ़ा दी। जोर जोर से अपना लंड उसके गांड में घुसाकर निकालने लगा। वो बहुत ही जोर जोर से “आऊ…..आऊ….हमममम अहह्ह्ह्हह…सी सी सी सी..हा हा हा..” की आवाज के साथ अपना काम लगवाए हुए था।

मै लेट गया। वो मेरे ऊपर आकर लंड खड़ा करके बैठ कर उछल उछल कर गांड चुदवाने लगा। ख़ूब जोर जोर से ऊपर नीचे होकर अपना गांड मरवाने लगा। मै भी कमर उठा उठा कर पेल रहा था। जब भी तेज पेलता तो उसकी चीखे निकल जाती। वो जोर जोर से “उ उ उ उ उ……अ अ अ अ अ आ आ आ आ… सी सी सी सी….. ऊँ— ऊँ… ऊँ….” की आवाज के साथ चुदवा रहा था। मैं भी अब झड़ने वाला था। मैंने उसके गांड में अपना लंड खूब जल्दी जल्दी डालने के लिए ऊपर नीचे कमर उठा उठा कर पटकने लगा। मेरा लंड स्खलित होने वाला था।

मैंने पूछा- “कहाँ गिराऊं अपना माल जनाब”
चिन्मय- “मेरे मुह में अपना माल गिरा दो”
मैंने जल्दी से उठ कर मुठ मार कर सारा माल उसके मुह में गिरा दिया। वो बहुत ही मजे से सारा माल पीकर चैन से बैठ गया। पूरी रात हम लोगो ने ब्लू फिल्म देख कर मजा लिया।

The Author

गुरु मस्तराम

दोस्तो मैं यानी आपका दोस्त मस्ताराम, मस्ताराम.नेट के सभी पाठकों को स्वागत करता हूँ . दोस्तो वैसे आप सब मेरे बारे में अच्छी तरह से जानते ही हैं मुझे सेक्सी कहानियाँ लिखना और पढ़ना बहुत पसंद है अगर आपको मेरी कहानियाँ पसंद आ रही है तो तो अपने बहुमूल्य विचार देना ना भूलें

Disclaimer: This site has a zero-tolerance policy against illegal pornography. All porn images are provided by 3rd parties. We take no responsibility for the content on any website which we link to, please use your won discretion while surfing the links. All content on this site is for entertainment purposes only and content, trademarks and logo are property fo their respective owner(s).

वैधानिक चेतावनी : ये साईट सिर्फ मनोरंजन के लिए है इस साईट पर सभी कहानियां काल्पनिक है | इस साईट पर प्रकाशित सभी कहानियां पाठको द्वारा भेजी गयी है | कहानियों में पाठको के व्यक्तिगत विचार हो सकते है | इन कहानियों से के संपादक अथवा प्रबंधन वर्ग से कोई भी सम्बन्ध नही है | इस वेबसाइट का उपयोग करने के लिए आपको उम्र 18 वर्ष से अधिक होनी चाहिए, और आप अपने छेत्राधिकार के अनुसार क़ानूनी तौर पर पूर्ण वयस्क होना चाहिए या जहा से आप इस वेबसाइट का उपयोग कर रहे है यदि आप इन आवश्यकताओ को पूरा नही करते है, तो आपको इस वेबसाइट के उपयोग की अनुमति नही है | इस वेबसाइट पर प्रस्तुत की जाने वाली किसी भी वस्तु पर हम अपने स्वामित्व होने का दावा नहीं करते है |

Terms of service | About UsPrivacy PolicyContent removal (Report Illegal Content) | Disclaimer |



"sasur ne bahu ko choda""maa bete ki chudai hindi sex story""jija sali ki sex kahani""bhabhi ne sikhaya""antarvassna hindi sex kahani""choti bahan ko choda""chudai ki khaniya hindi me""sale ki beti ki chudai""kamasuthra kathaikal tamil""भूत की डरावनी कहानियाँ""www antravasna hindi com""group sex stories in hindi""marathi antarvasna katha""sunny leone sex story in hindi""mastram com net""bhai bahan ki sex story""tamil sex stories daily updates""bollywood actress ki chudai story""antravassna hindi kahani""baap beti sex kahani hindi""maa beti sex kahani""khet me maa ki chudai""hindi sex kahani bhai bahan""maa bete ki sex story in hindi""chachi ka doodh""गे कथा""mastram ki chudai ki kahaniyan""mastram kahani""www mastram sex story""maa bete ki sex story hindi""ma beta ki sex story""मस्तराम सेक्स""chudayi khaniya""didi ki chuchi""bengali sex kahani""bahu ki chudai ki kahani""antarvasna bap beti""bahu sex stories""mastram sexy""xxx gujarati story""tai ki chudai""mastram sexstory""परिवार में चुदाई""actress ki chudai kahani""marathi latest sex stories""hindi lesbian kahani""mastram hindi sexy story""marathi antarvasna com""hindi sex story dog""bhai behan ki chudai ki kahani hindi""mami ka doodh""sunny leone sex story in hindi""sex story bhai bhen""sexy story maa beta""मस्तराम की कहानिया""hindi bollywood sex story""antravasasna hindi story""maa ki chut ki kahani""bhatiji ki chudai""marathi font sex katha""free gujarati sex story""kanchan ki chudai""mastaram sex story""mastram hindi sex stories""chachi ki chudai hindi kahani""romantic sex kahani""maa bete ki sex kahani""mastram ki hindi sex kahani""chodan com hindi story""dost ki beti ko choda"masataram"mother and son sex story in hindi""chachi ki chudai story""didi ki chuchi""ma beta sex story in hindi""चुदाई की कहानियाँ""sage bhai bahan ki chudai""sagi maa ki chudai""family group sex story""mastram sex story in hindi""animal hindi sex story""devar bhabhi chudai ki kahani""punjabi sex khaniya""holi me chudai""andhere me choda""baap beti ki chudayi""moti maa ko choda""wife swapping kahani""mastram ki sexi kahaniya""mastram hindi sex kahani""antarvasna new 2016"www..antarvasna.com"gujarati chudai kahani""www mastram net com""sexy poem in hindi""marathi real sex stories""mastram sexy kahani""maa beta hindi sex kahani""gujarati chudai story""antarvassna hindi story"